वक़्त को वक़्त नही लगता बदलने में – Hindi Poem

poeminhindi

वक़्त को वक़्त नही लगता बदलने में ,

सब्र्  के बाँध से ख़ुद को बांधना पड्ता है

होसला गर हो बुलंद और इरादो में तेज हो ,

पा जाओ गे सब कुछ गर दिल के नेक हो

आज नही तो कल सब तेरा है बंदे ,

तू नेकी तो कर,आगे सवेरा है बंदे

वक़्त वक़्त की बात है,

आज ज़मीन तो कल आकाश है

खुब सपनों में ज़ी ली ज़िंदगी हमने,

आज सब राख बस राख है

also read – दर्द की नई पह्चान

शब्द कम पर ज़्ज़बात वो ही है,

सीने में अहसास वो ही है

अकसर हंस के मिलते है मेरे दुश्मन,

उनकी ख़ास बात वो ही है

Sonia Bhatt Khattar

also read – वक्त की सब बात – Hindi Poem

also read – शहीदो के नाम

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

6 thoughts on “वक़्त को वक़्त नही लगता बदलने में – Hindi Poem”

  1. I’m truly enjoying the design and layout of your site.
    It’s a very easy on the eyes which makes it much more enjoyable for me to come here and visit
    more often. Did you hire out a designer to create your
    theme? Fantastic work!

  2. Thanks for one’s marvelous posting! I seriously enjoyed reading
    it, you can be a great author.I will always bookmark your blog and will come back in the
    foreseeable future. I want to encourage that you continue your great posts, have a nice evening!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *