Mahashivratri Katha in Hindi – महाशिवरात्रि 2017 व्रत की कथा

किसी समय वाराणसी के जंगल में एक भील रहता था। उसका नाम गुरुद्रुह था। वह जंगली जानवरों का शिकार कर अपना परिवार पालता था। एक बार शिवरात्रि पर वह शिकार करने वन में गया। उस दिन उसे दिनभर कोई शिकार नहीं मिला और रात भी हो गई। तभी उसे वन में एक झील दिखाई दी। उसने सोचा मैं यहीं पेड़ पर चढ़कर शिकार की राह देखता हूं। कोई न कोई प्राणी यहां पानी पीने आएगा। यह सोचकर वह पानी का बर्तन भरकर बिल्ववृक्ष पर चढ़ गया। उस वृक्ष के नीचे शिवलिंग स्थापित था। थोड़ी देर बाद वहां एक हिरनी आई। गुरुद्रुह ने जैसे ही हिरनी को मारने के लिए धनुष पर तीर चढ़ाया तो बिल्ववृक्ष के पत्ते और जल शिवलिंग पर गिरे। इस प्रकार रात के प्रथम प्रहर में अंजाने में ही उसके द्वारा शिवलिंग की पूजा हो गई। तभी हिरनी ने उसे देख लिया और उससे पूछा कि तुम क्या चाहते हो। वह बोला कि तुम्हें मारकर मैं अपने परिवार का पालन करूंगा। यह सुनकर हिरनी बोली कि मेरे बच्चे मेरी राह देख रहे होंगे। मैं उन्हें अपनी बहन को सौंपकर लौट आऊंगी। हिरनी के ऐसा कहने पर शिकारी ने उसे छोड़ दिया। थोड़ी देर बाद उस हिरनी की बहन उसे खोजते हुए झील के पास आ गई। शिकारी ने उसे देखकर पुन: अपने धनुष पर तीर चढ़ाया। इस बार भी रात के दूसरे प्रहर में बिल्ववृक्ष के पते और जल शिवलिंग पर गिरे और शिवलिंग की पूजा हो गई। उस हिरनी ने भी अपने बच्चों को सुरक्षित स्थान पर रखकर आने को कहा। शिकारी ने उसे भी जाने दिया। थोड़ी देर बाद वहां एक हिरन अपनी हिरनी को खोज में आया। इस बार भी वही सब हुआ और तीसरे प्रहर में भी शिवलिंग की पूजा हो गई। वह हिरन भी अपने बच्चों को सुरक्षित स्थान पर छोड़कर आने की बात कहकर चला गया। जब वह तीनों हिरनी व हिरन मिले तो प्रतिज्ञाबद्ध होने के कारण तीनों शिकारी के पास आ गए। सबको एक साथ देखकर शिकारी बड़ा खुश हुआ और उसने फिर से अपने धनुष पर बाण चढ़ाया, जिससे चौथे प्रहर में पुन: शिवलिंग की पूजा हो गई। इस प्रकार गुरुद्रुह दिनभर भूखा-प्यासा रहकर रात भर जागता रहा और चारों प्रहर अंजाने में ही उससे शिव की पूजा हो गई, जिससे शिवरात्रि का व्रत संपन्न हो गया। इस व्रत के प्रभाव से उसके पाप तत्काल ही भस्म हो गए। पुण्य उदय होते ही उसने हिरनों को मारने का विचार त्याग दिया।

For Shivratri2017 puja vidhi please click here – Shivratri puja vidhi

For Mahashivratri stories please click here – Mahashivratri stories

For 108 names of shiv please click here – 108 shiv names  

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

Happy Mahashivratri – Stories & Shivratri Katha

Lord Shiva blesses us with the special occasion of Mahashivaratri. The festival is celebrated on the new moon day in the month of Maagha according to the Hindu calendar. The day is celebrated to venerate Lord Shiva, an important deity in Hindu culture. There are a number of legends related to the auspicious festival of Mahashivaratri, these throw light on the greatness of Lord Shiva and his supremacy over all other Hindu Gods and Goddesses. Continue reading “Happy Mahashivratri – Stories & Shivratri Katha”

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

Best Books by Shiv Khera

Best Books by Shiv Khera
We all are very passionate about reading. For reading, it is important to read good books. Shiv Khera is a well- known name in the list of a famous author. Shiv Khera had written different books which are motivational and inspirational to us.
Here, is a list of best books written by Shiv Khera
• You Can Sell
• You Can Win: A Step by Step Tool for Top Achievers
• Freedom is not free
• You can sell
• The magic of thinking big
• Living with honor
• Successful Leadership
• Bechna sikho aur safal bano
• Attitude – The Key to success
• Winner’s edge
• PROBE – Revisited

Sharing is caring! Share the post to your loved ones