इंसानियत को दो मान – Hindi poem

रंग से ना करो प्यार, वो इक दिन ढल जाएगा

इंसानियत को दो मान, वो ही तुम्हारे काम आएगा | Continue reading “इंसानियत को दो मान – Hindi poem”

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

Happy Friendship Day – दोस्ती अनमोल है

Happy Friendship Day to all

“दोस्त किस्मत से मिलते है, कीमत से नहीं”

किस्मत वाले है वो जिनके दोस्त होते है | दोस्ती ही एक ऐसा रिश्ता है जो आप खुद अपनी मर्जी से चुनते है | बिना किसी वजह से जो रिश्ता कायम होता है वो है दोस्ती | बिना किसी मतलब से, जिसके साथ रहेने का मन करे, जिससे अपनी सारी बाते शेयर करने का मन करे, जिसका हर वक़्त मजाक उड़ाने का मन करे, उस दोस्त को दिल से शुकरिया करने का दिन है आज | Happy Friendship Day Continue reading “Happy Friendship Day – दोस्ती अनमोल है”

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

Inspirational story of small boy – प्यास की कोई कीमत नहीं होती

कुछ कहानिया हमें कुछ ख़ास सीखा देती है | कुछ कहानिया आम होके भी नाम कमा लेती है | आज हम आप को एक छोटे से बच्चे की कहानी बताने जा रहे है जिसका नाम राजू था | Continue reading “Inspirational story of small boy – प्यास की कोई कीमत नहीं होती”

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

वक़्त को वक़्त नही लगता बदलने में – Hindi Poem

वक़्त को वक़्त नही लगता बदलने में ,

सब्र्  के बाँध से ख़ुद को बांधना पड्ता है

होसला गर हो बुलंद और इरादो में तेज हो ,

पा जाओ गे सब कुछ गर दिल के नेक हो Continue reading “वक़्त को वक़्त नही लगता बदलने में – Hindi Poem”

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

वक्त की सब बात – Hindi Poem

वक्त की सब बात

वक्त की ही तो बात है सब

वरना तू  राजा,मै फकीर क्यू ? Continue reading “वक्त की सब बात – Hindi Poem”

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

दर्द की नई पह्चान

अपनो  को  छोड़ गैरो  में आई  मै

गैरो को अपना समझा बहुत  पछ्ताई   मै

मेरे दर्द में भी दर्द ना दिखे

एसी  जगह  है ये  मेरे  लिए

मांग  भरते  ही दुनिया  का रंग दिखने लगा

सिक्के के दो पहलू का हर ढंग दिखने लगा

माँ के स्पर्श को तरस  सी गए मै

सर पे कोई हाथ फेरे, बिखर सी गई मै

अस्तिव के टुकडें दुर तक जा गिरे  है

कही दिल तो कही जहन  घायल पड़े  है

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

All The World’s A Stage (William Shakespeare)

51655                          

All the world’s a stage,
And all the men and women merely players;
They have their exits and their entrances,
And one man in his time plays many parts,
His acts being seven ages. At first, the infant,
Mewling and puking in the nurse’s arms.
Then the whining schoolboy, with his satchel
And shining morning face, creeping like snail
Unwillingly to school. And then the lover,
Sighing like furnace, with a woeful ballad
Made to his mistress’ eyebrow. Then a soldier,
Full of strange oaths and bearded like the pard,
Jealous in honor, sudden and quick in quarrel,
Seeking the bubble reputation
Even in the cannon’s mouth. And then the justice,
In fair round belly with good capon lined,
With eyes severe and beard of formal cut,
Full of wise saws and modern instances;
And so he plays his part. The sixth age shifts
Into the lean and slippered pantaloon,
With spectacles on nose and pouch on side;
His youthful hose, well saved, a world too wide
For his shrunk shank, and his big manly voice,
Turning again toward childish treble, pipes
And whistles in his sound. Last scene of all,
That ends this strange eventful history,
Is second childishness and mere oblivion,
Sans teeth, sans eyes, sans taste, sans everything.
Continue reading “All The World’s A Stage (William Shakespeare)”

Sharing is caring! Share the post to your loved ones