कहानी एक बुजुर्ग जोड़े की -भाग ४

अभी तक आपने पढ़ा की कैसे नीरज और चित्रा मिले, कैसे उन्हें प्यार हुआ और जब उनके परिवार वालो को पता चला तो उनकी क्या प्रतिक्रिया हुई | अब पढ़िए आगे की कहानी

कहानी एक बुजुर्ग जोड़े की -भाग १ पढने के लिए यहाँ क्लिक करे

कहानी एक बुजुर्ग जोड़े की -भाग २ पढने के लिए यहाँ क्लिक करे

कहानी एक बुजुर्ग जोड़े की -भाग ३ पढने के लिए यहाँ क्लिक करे

चित्रा के घर वालो को पता लगने के बाद जैसे चित्रा पर दुखो का पहाड़ गिर पड़ा | चित्रा जहा सबकी चहेती थी वहीं सबकी नफरत की शिकार होने लगी | सभी लोग उसे कोसते और ताने मारते पर चित्रा का हौसला इससे बिलकुल भी नहीं टूटता था वो अपने निश्चय पर दृढ़ थी और किसी की बात पर उसको कोई फर्क नहीं पड़ता था | समय बीत रहा था पर उसके परिवार पर इसका कोई फर्क नहीं पड़ रहा था की चित्रा पर क्या बीत रही है उधर नीरज दूसरी नौकरी में व्यस्त हो गया था क्योकि उसके ऊपर पूरे परिवार की जिमीदारी भी थी | उसका भाई भी अब उम्र में काफी बड़ा हो गया था पर दिमाग से आज भी वैसा ही था इस लिए नीरज को उसपर विशेष ध्यान देना पड़ता था |
Continue reading “कहानी एक बुजुर्ग जोड़े की -भाग ४”

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

खुशहाल जीवन की तलाश (Dalai Lama) – दलाई लामा

“हमारे अस्तित्व का उद्देश्य ख़ुशी को तलाशना है”

दलाई लामा ने एरिज़ोना में अपने सभी श्रोतागण के सामने जीवन की बहुत ही गहरी बात समझाई थी | दलाई लामा ने कहा था कि –

हमारे जीवन का उद्देश्य सदा खुश रहना है | हम चाहे किसी भी धर्म में विश्वास रखे या किसी भी धर्म में विश्वास ना रखे लेकिन हम सब जीवन में कुछ तलाश रहे है | लेकिन हम सब की तलाश सदा खुश रहेने की तरफ ही है | सदा खुश रहना आसान नहीं है मगर हम ऐसा कर सकते है अपने दिमाग को training दे तो | Continue reading “खुशहाल जीवन की तलाश (Dalai Lama) – दलाई लामा”

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

कहानी एक बुजुर्ग जोड़े की -भाग ३

यह कहानी है एक ऐसे बुजुर्ग जोड़े की जो बचपन से साथ खेले और बड़े होते होते एक दुसरे के प्यार में पड़ गए पर भाग्य को कुछ और ही मंज़ूर था और वो बिछड़ गए और बुढ़ापे में फिर से मिले | इसमें अभी तक आप ने पढ़ा कि नीरज और चित्रा के स्वाभाव और उनके परिवार के और उनके बीच के रिश्ते और फर्क के बारे में , अब पढ़िए आगे के क्या हुआ जब चित्रा ने नीरज को अपने कमरे से निकाल दिया|

यहाँ पढ़े कहानी एक बुजुर्ग जोड़े की -भाग 1

यहाँ पढ़े कहानी एक बुजुर्ग जोड़े की -भाग 2

चित्रा के निकालने पर नीरज बिलकुल हिल सा गया था उसे गरीब-अमीर का फर्क समझ आ गया था, उसी दिन नीरज ने ठान लिया कि वो अब और मेहनत करेगा और अमीर बनकर रहेगा | उस दिन की बात तो नीरज अपने मन में रख लिया और किसी को नहीं बताया पर उसी दिन से उसने काम पर और ध्यान देने लगा और खूब मेहनत करने लगा | Continue reading “कहानी एक बुजुर्ग जोड़े की -भाग ३”

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

कहानी एक बुजुर्ग जोड़े की -भाग २

अभी तक आपने पढ़ा नीरज के बारे में, उसके परिवार के बारे में, और उसके स्वभाव और काम के बारे में, अब पढ़िए इस कहानी के अगले किरदार यानि की उस लड़की के बारे में जो नीरज से जुड़ी हुई है |

भाग -१ को पढने के लिए यहाँ क्लिक करे

उस लड़की का नाम था चित्रा सिंह | चित्रा एक जमीदार परिवार में जन्मी थी जो पैसे में काफी संपन्न थे और उसके पिता भोला सिंह एक प्रसिद्ध व्यापारी भी थे | चित्रा के पिता एक बहुत ही कट्टर परिवार के जमीदार थे और आन मान और शान के लिए कुछ भी करने को तैयार रहते थे | चित्रा की माँ तुलसी देवी बहुत ही सात्विक स्वाभाव की थी | घरेलु काम में माहिर होने के साथ साथ वो सामाजिक कार्यो में भी काफी दिलचस्पी रखती थी | चित्रा की एक बहन भी थी जिसका नाम था आतिया सिंह वो चित्रा से २ साल बड़ी थी और एक भाई था रमेश सिंह जो चित्रा से ५ साल बड़ा था | Continue reading “कहानी एक बुजुर्ग जोड़े की -भाग २”

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

Don’t ignore these behaviors in children – बच्चो की इन बातो को ना करे नजर अंदाज

भाई बहनो में लडाई

भाई बहनो में लडाई होती है पर वो एक सीमा तक होनी चाहिये अगर बच्चो की लडाई हद से ज्यादा हो रही है तो माता पिता को इस का ध्यान देना चाहिये उनको कोशिश करनी चाहिये कि भाई बहनो और दुसरो बच्चो में हमेशा प्यार बना रहे बच्चो के साथ ऐसे खेले कि उन्हें एक दुसरे के प्रति प्यार मह्सुस हो बच्चो को ऐसी कहानिया सुनाए जो उन्हें प्यार दुसरो की मदद कराने कि सीख दे बच्चो के साथ होए Continue reading “Don’t ignore these behaviors in children – बच्चो की इन बातो को ना करे नजर अंदाज”

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

How to deal with Ego-Sri Sri Ravi Shankar

 

Now, every relationship becomes complex. Everyone is disturbed by others. Everyone is judging others instead of spending time on their self. We all are lacking in Self Awareness. We all are suffering from a disease “EGO”. Ego is killing love in relationship and hatred feelings are growing among people. Sri Sri Ravi Shanker had thrown a light on “How to deal with Ego”. He discussed how ego is creating problems and what all solutions are there to solve ego problems.  Continue reading “How to deal with Ego-Sri Sri Ravi Shankar”

Sharing is caring! Share the post to your loved ones