How did Chanakya die – Mystery कैसे हुई थी आचार्य चाणक्य की मृत्यु

howchanakyadied

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

कैसे हुई थी आचार्य चाणक्य की मृत्यु

ज़ीवन के कई रह्स्यो को बताने वाले आचार्य चाणक्य के ख़ुद की ज़िंदगी में कई रह्स्य है

उनकी सफलता बनी मृत्यु  की वजह

राजा चंद्र गुप्त  मोर्या की  सफलता की सबसे बडी वजह थी आचार्य चाणक्य इंसान की सफलता से जलने वाले भी होते है आचार्य चाणक्य के साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ चंद्र गुप्त  मोर्या  की मृत्यु के बाद उनके बेटे राजा बिंदुसार को राजनिति का पाठ भी आचार्य चाणक्य ने सिखाया बिंदुसार के मंत्री सुगंधु को चाणक्य पसंद नही थे एक बार सुगंधु को चाणक्य कि एक ऐसी बात पता चल गई जो बाद में चाणक्य की मृत्यु का कारण बनी

 चंद्र गुप्त  मोर्या  के खाने में विष मिलाते थे आचार्य चाणक्य

चंद्र गुप्त  मोर्या  के खाने में थोडा थोडा विष मिलाते थे आचार्य चाणक्य  ताकि उनका शरीर विष का आदि हो सके और समय आने में कोई शत्रु उन्हें विष वाला भोजन खिला के मार ना सके एक दिन विष मिला हुआ खाना गलती से रानी ने खा लिया जो उस समय गर्भवती थी इस से रानी कि तबियत खराब होने लगी जब आचार्य चाणक्य को ये बात पता चली तो आचार्य चाणक्य ने रानी के पेट को काट कर शिशु को बहार निकाल दिया मंत्री सुगंधु ने राजा बिंदुसार के मन में ये बात बिठा दी कि तुम्हारी माँ की मृत्यु का करण आचार्य चाणक्य  है

बदला 

राजा बिंदुसार ने बदला लेने की भावना से भरी सभा में आचार्य चाणक्य  का अपमान किया आचार्य चाणक्य  के लिए समान बहुत बडी बात थी इसी लिए उन्होंने वन में रहने का मन बना लिया कुछ समय बाद अन जल त्याग ने के करण उनकी मृत्यु हो गई कई लोग ये भी कहते है कि जब राजा बिंदुसार को सत्य का पता चला तो वो माफी मांगने वन में गए और कुछ ये भी कहते है कि वन में आचार्य चाणक्य की कुटिया में सुगंधु ने आग लगवा दी थी जिस से उनकी मृत्यु हो गई इतिहास कारो ने भी आचार्य चाणक्य  की मृत्यु का सही कारण नही बताया है दुसरो के ज़ीवन के कई राज़ सुलझाने वाले आचार्य चाणक्य  की मृत्यु ख़ुद एक राज़ बन के रह गई

Also read – quotes of chanakya 

अगर आप को ये post पसंद आया हो तो इसे जरुर like, comment और share करे

 

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *