कदम बढ़ाते मंजिल की ओर – Hindi Poem

कदम बढ़ाते मंजिल की ओर

जीवन का कतरा कतरा ले कर

चल दिए राहो पर हम तो,

हिम्मत थोड़ी थोड़ी बढ़ा कर

कदम बढ़ाते मंजिल की ओर |

ना थकने का वादा करके

खरे सोने की तरह तपके,

उस तपन को साथ लेके

कदम बढ़ाते मंजिल की ओर |

इस Article को भी जरुर पढ़े : डेरेक रेडमंड  : हार कर भी बना विजेता

तेज़ हवाओ से ना डर कर

खोखली बातो में ना फस कर,

ना थक कर ना हार कर

कदम बढ़ाते मंजिल की ओर |

बैठ कर दुसरो को देखे

इतना शायद वक़्त नहीं है,

अपनी कमी खुद ही ढूढते

कदम बढ़ाते मंजिल की ओर |

थक कर भी मै चल पाऊंगा

एक दिन जीत का हार पहनाने,

मंजिल तेरे पास आऊंगा |

इस आस को साथ लेके

कदम बढ़ाते मंजिल की ओर |

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

7 thoughts on “कदम बढ़ाते मंजिल की ओर – Hindi Poem”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *