Happy Friendship Day – दोस्ती अनमोल है

happyfriendshipday

Happy Friendship Day to all

“दोस्त किस्मत से मिलते है, कीमत से नहीं”

किस्मत वाले है वो जिनके दोस्त होते है | दोस्ती ही एक ऐसा रिश्ता है जो आप खुद अपनी मर्जी से चुनते है | बिना किसी वजह से जो रिश्ता कायम होता है वो है दोस्ती | बिना किसी मतलब से, जिसके साथ रहेने का मन करे, जिससे अपनी सारी बाते शेयर करने का मन करे, जिसका हर वक़्त मजाक उड़ाने का मन करे, उस दोस्त को दिल से शुकरिया करने का दिन है आज | Happy Friendship Day

हर साल, अगस्त महीने के पहले रविवार को Friendship Day मनाया जाता है | यह एक बहुत ही खुबसूरत शुरुआत है दोस्तों को उनकी दोस्ती के लिए धन्यवाद बोलने का | हमारे जीवन में हर रिश्ते हमे जन्म के साथ ही मिल जाते है | लेकिन सिर्फ दोस्त ही है जो हम अपनी पसंद से बनाते है | इस खुबसुरत दिन की शुरुआत दोस्ती की कहानी के साथ |

इस Article को भी जरुर पढ़े : आओ दोस्तों को याद करे

दोस्ती पर कविता – वो है दोस्त

जिस की गाली, गाली न लगे, वो है दोस्त

ना होतो, खाली खाली सा लगे, वो है दोस्त

हर मस्ती में जो साथ दे, वो है दोस्त

गलत काम करने न दे, वो है दोस्त

जिस के कंधे सर रखकर रो सके, वो है दोस्त

दुःख में भी हसा दे, वो है दोस्त

खुदा का अनमोल तोहफा, वो है दोस्त

Story of two friends – दो दोस्तों की कहानी

ये कहानी है महेश और धीरज की | दोनों ही काफी पुराने और अच्छे दोस्त थे | एक दिन दोनों ने गोआ शहर घुमने का प्लान किया | दोनों अपने अपने घर से निकल गए | रास्ते में खूब मस्ती करते दोनों जा रहे थे | अचानक दोनों में किसी बात पर बहस हो गई | वो बहस इतनी ज्यादा हो गई कि महेश ने धीरज को जोर से थप्पड़ मार दिया | धीरज को बहुत बुरा लगा | सामने ही कुछ मिटटी पड़ी थी, धीरज ने उस मिटटी पर लिखा “आज मेरे सबसे करीबी दोस्त ने मेरे पर हाथ उठाया” | ये सब महेश भी देख रहा था पर वो कुछ बोला नहीं | पूरे रास्ते दोनों ने एक दुसरे से बात तक नहीं की | मगर पूरे रास्ते दोनों एक दुसरे का ख़याल रख रहे थे | अब दोनों गोआ पहुच गए थे | दोनों ने बात करनी शुरू कर दी थी | दोनों ने फिर से मस्ती करना शुरू कर दिया था | दोनों आज बहुत खुश थे क्युकी वे आज गोआ के beach में घुमने जा रहे थे | beach में पहुच कर वे बहुत मस्ती करने लगे | मस्ती मस्ती में दोनों पानी में उतर गए | दोनों ही बहुत खुश थे | एक दुसरे पर पानी गिराना और एक दुसरे को पानी में गिराना | हर तरह की मस्ती में दोनों झूम रहे थे | अचानक मस्ती मस्ती में धीरज beach में काफी आगे तक चला गया और वे डूबने लगा | महेश ने जब देखा वो भाग कर गया और धीरज को डूबने से बचाया | धीरज बोला यार आज तो मै मरता और मुझे तैरना भी नहीं आता था | तभी महेश बोला, मेरे होते तुझे डरने की क्या जरुरत है | तेरे लिए मै हमेशा हु | ये सुन कर धीरज को बहुत अच्चा लगा तभी धीरज बोला “चल चल dialogue मत मार” | पानी से बाहर आते ही दोनों ने साथ में खाना खाया और वापिस अपने होटल जाने लगे | रास्ते में पत्थर देख कर धीरज उसपर लिखने लगा | उसने पत्थर में लिखा “आज मेरे दोस्त ने मेरी जान बचाई” | यह देख महेश ने धीरज से पूछा, जब मैंने तुम को मारा तो तुमने मिटटी में लिखा और जब मैंने तुम को बचाया तो तुम ने पत्थर पर लिखा | ऐसा क्यों ?

इस Article को भी जरुर पढ़े : संग का रंग – सफल होने के लिए किस तरह के लोगो से रहे दूर

धीरज ने कहा जीवन में हर हाल में दोस्त की दोस्ती जरुरी है | बिना दोस्ती हम कुछ भी नहीं | जब तुम्हारा दोस्त तुम्हे दुःख दे तो तुम उसे मिटटी में लिखो ताकि माफ़ी की हवा से मिटटी में लिखा सब कुछ तुम मिटा सको | जब तुम्हारा दोस्त तुम्हारे लिए कुछ अच्छा करे तब तुम उसे पत्थर में लिखो ताकि दोस्त की करी गई अच्छाई तुम कभी मत भूलो | पत्थर में लिखी गई बाते मिटती नहीं है | दोस्त की करी गई मदद हमेशा याद रखो और जब कभी गलती से दोस्त ने कोई दुःख दिया हो तो दोस्त की अच्छाई को याद रख के उसके दिए गए दुःख को भूल जाओ |

ये सुन कर महेश भावुक हो गया | महेश और धीरज ने भगवान् का धन्यवाद किया कि भगवान ने उनको ये दोस्ती दी |

दोस्ती की ये कहानी आप को कैसी लगी हमें जरुर बताए | Truthofthoughts.com की तरफ से आप सभी को Happy Friendship Day | इस प्यार भरे दोस्ती के दिन की आप सभी को बहुत बहुत बधाई | आशा करते है कि आप सब अपने जीवन में दोस्ती की कीमत कभी नहीं भूलेंगे | आप सब खूब ख़ुशी के साथ इस दिन को मनाए | समय निकाल के पुराने से पुराने दोस्त से मिले | अपने दोस्तों को ये एहसास दिलाए कि वे आप के लिए कितने जरुरी है |

आप को अगर किसी topic में जानकारी चाहिए तो आप हमें इस  mail id पर mail करे truthofthoughts08@gmail.com, हम उस topic में article अपनी website में available कराएंगे |

आप अपने विचार हमें comment के जरिये बता सकते है | आप सब please अपने real name के साथ comment करे जिस से हमें आप को जान ने में असानी होगी |

 

 

 

 

 

 

 

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

3 thoughts on “Happy Friendship Day – दोस्ती अनमोल है”

  1. As I website possessor I believe the content matter here is rattling wonderful , appreciate it for your hard work. You should keep it up forever! Best of luck.

  2. I just could not depart your web site prior to suggesting that I extremely loved the usual info a person supply in your visitors? Is gonna be again incessantly to check up on new posts.

Leave a Reply

Your email address will not be published.