What Swami Vivekananda did on his last day – स्वामी विवेकानंद ने अपने अंतिम समय में क्या किया

इंडिया ने अध्यात्म की दुनिया में बहुत हीरे दिए है उनमे से एक नाम स्वामी विवेकानंद का भी है | स्वामी विवेकानंद ने अपने अनमोल विचारो से सिर्फ इंडिया में नहीं पुरी दुनिया में अध्यात्म की रोशनी फैलाई |  जीवन में आगे बढने के साथ साथ किस तरह अपने अंदर की शांति को बनाए रखना है ये हमें स्वामी विवेकानंद के विचारो से सिखने को मिलता है

“सच्ची सफलता और आनंद का सबसे बड़ा रहस्य यह हैवह पुरुष या स्त्री जो बदले में कुछनहीं मांगता, पूर्ण रूप से निस्स्वार्थ व्यक्तिसबसे सफल है Continue reading “What Swami Vivekananda did on his last day – स्वामी विवेकानंद ने अपने अंतिम समय में क्या किया”

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

क्या है करेंसी चेस्ट? यूं कुबेर के खजाने से बंटता है रुपया

केन्द्रीय रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया का सबसे प्रमुख काम देश में नई-पुरानी करेंसी का संचार करना है.

इसमें नई करेंसी और नए सिक्कों का देशभर में वितरण, पुरानी करेंसी को रिसाइकल करना और सभी बैंकों में एकत्र हुए अत्यधिक कैश को अपने पास रखने का काम किया जाता है. इन सभी काम को करने के लिए रिजर्व बैंक के पास देशभर में कई खजाना बनाना पड़ता है जिसे वह करेंसी चेस्ट कहता है. इस करेंसी चेस्ट या कुबेर के खजाने को देशभर कई जगहों पर बनाया जाता है जिससे रिजर्व बैंक का करेंसी वितरण काम आसानी से किया जा सके. करेंसी चेस्ट का काम देशभर में करेंसी के संचार को बनाए रखने के लिए मौजूदा समय में रिजर्व बैंक के पास लगभग 4211 करेंसी चेस्ट हैं. इसके अलावा सिक्कों का संचालन करने के लिए उसके पास 3990 डिपो हैं. ये चेस्ट देशभर में फैले हुए हैं क्योंकि संचार के साथ-साथ इन खजानों में किसी भी सामान्य बैंक में जमा कराए गए रुपयों (कैश रिजर्व रेशियो) को भी रखा जाता है. नोटबंदी की प्रक्रिया शुरू होते ही ये करेंसी चेस्ट महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं. सरकारी प्रेम में नई करेंसी की प्रिंटिग होने के बाद उसे सीधे देशभर में फैले इन करेंसी चेस्ट में पहुंचा दिया जाता है. रिजर्व बैंक का दिया यह नक्शा बताता है कि देश में कहां-कहां करेंसी चेस्ट मौजूद हैं. करेंसी चेस्ट में पार्टनर करेंसी चेस्ट को देशभर में स्थापित करने के लिए रिजर्व बैंक प्रमुख सरकारी बैंक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया का सहयोग लेता है. इसके अलावा इस काम में 6 सहयोगी बैंकों, सभी नैशनलाइज्ड बैंक, प्राइवेट सेक्टर के कुछ चुने हुए बैंक, 1 विदेशी बैंक, 1 कोऑपरेटिव बैंक और ग्रामीण बैंक को भी शामिल किया जाता है. इस काम को करने के रिजर्व बैंक अपने देशभर में फैले 18 ब्रांच या इशू ऑफिस के जरिए करता है.

कैसे पहुंचाई जाती है चेस्ट में करेंसी

देश के 4 सरकारी प्रेस में करेंसी की प्रिंटिंग होने के बाद उसे सीधे रिजर्व बैंक के 18 इशू ऑफिस में पहुंचाया जाता है. इन ऑफिस तक नई करेंसी को पहुंचाने के लिए रेलवे, एयर फोर्स के माल वाहक विमान और राज्य पुलिस की मदद ली जाती है. शहरों में यातायात के लिए आमतौर पर करेंसी की बड़ी मूवमेंट के लिए निजी क्षेत्र से बड़े कंटेनर वेहिकल किराए पर लिए जाते हैं. इस पूरी प्रक्रिया की पूरी गोपनियता रखी जाती है और देश के कुछ संवेदनशील इलाकों में सुरक्षा के लिए सेना की मदद भी ली जाती है. इसके बाद करेंसी को रिजर्व बैंक की निगरानी में अन्य बैंकों द्वारा चलाए जा रहे करेंसी चेस्ट में पहुंचा दिया जाता है.

एटीएम और बैंक शाखाओं को मिलता है रुपया

रिजर्व बैंक के इस विशाल नेटवर्क से करेंसी को बैंकिग व्यवस्था में डाला जाता है. इसमें प्रमुख काम देशभर में सभी बैंकों के एटीएम में रुपया भरने के काम के साथ-साथ बैंक की सभी ब्रांचों में दिन के काम के लिए करेंसी की सप्लाई की जाती है.

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

Chanakya niti -किसी भी बिजनेस में सफलता का अचूक मंत्र -चाणक्य नीति 

यदि आप business करते है या करने की सोच रहे है तो ये post आप के लिए लाभ दायक है आचार्य चाणक्य  जो अपने तेज़ दिमाग कि वजह से जाने जाते है जिन्होंने ज़ीवन की कई परेशानियो का हल निकाला है उन्होंने कैसे अपने बिज़नेस को सफल बनाए के tips भी दिए है आप आचार्य चाणक्य  निति को अपना के अपने व्यपार को सफल बना सकते है व्यपार में सफलता पाने के लिए इन 6 बातो का ध्यान दे आचार्य चाणक्य  कहते है कि अगर इन 6 बातो का ध्यान रखोगे तो असफल होने का कोई सवाल ही नही Continue reading “Chanakya niti -किसी भी बिजनेस में सफलता का अचूक मंत्र -चाणक्य नीति “

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

How did Chanakya die – Mystery कैसे हुई थी आचार्य चाणक्य की मृत्यु

कैसे हुई थी आचार्य चाणक्य की मृत्यु

ज़ीवन के कई रह्स्यो को बताने वाले आचार्य चाणक्य के ख़ुद की ज़िंदगी में कई रह्स्य है Continue reading “How did Chanakya die – Mystery कैसे हुई थी आचार्य चाणक्य की मृत्यु”

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

बाबा वंगा (Baba Vanga) की भविष्यवाणियां- 9/11 Attack और Obama के President बनने की कहानी

बाबा वंगा (Baba Vanga) ने 9/11 Attack और Barack Obama के President बनने की भविष्यवाणियां बहुत पहले की थी, और वो सत्य साबित हुई। ऐसी और भी कई भविष्यवाणियां है जो सत्य साबित हुई है। बाबा वंगा को भगवान ने भविष्य देखने की शक्ति दी थी। वो भले ही आँखों से देख नही सकती थी मगर वो भविष्य में क्या होने वाला है देख पाती थी। Continue reading “बाबा वंगा (Baba Vanga) की भविष्यवाणियां- 9/11 Attack और Obama के President बनने की कहानी”

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

95 साल का जवान टर्किश योगी काजिम ने बताए 130 साल तक जिंदा रहने का रह्स्य

“They called it Miracle, I called it hard work “

Yogi Kazim – 95 years young yogi

काजिम जब 41 साल के थे तब एक कार दुर्घटना में उनकी कमर टूट गई थी, इस के बाद उन्हें लकवा मार गया था. सभी डॉक्टरों ने जवाब दे दिया था कि वे अब नही चल पाएंगे. काजिम की कड़ी मेहनत, योगा और दिमाग का सही दिशा में उपयोग करने से फिर से चलने लगे काजिम ने अपने ऊपर 63 प्रयोग किये और प्रयोग करने के 9 महीने बाद काजिम फिर से चल सके.

“Age is an issue of mind over matter” Continue reading “95 साल का जवान टर्किश योगी काजिम ने बताए 130 साल तक जिंदा रहने का रह्स्य”

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

बाबा वंगा की चौंकाने वाली भविष्यवाणियां

2023  में यूरोप की आबादी शून्य हो जाएगी

वेंगेलिया पांडेवा दिमित्रोवा ( Baba Vanga) बुल्गारिया में पैदा हुई।  बाबा वंगा premature baby हुई थी, जिन्हें बचपन में काफ़ी सेहत से परेशानिया हुई।  बचपन में बाबा वंगा एक normal बच्ची थी, छोटे में ही इनकी माँ इस दुनिया से चली गई।  बचपन से ही बाबा वंगा को पड़ोसियों और दोस्तों के सहारे रही। 12 साल तक सामान्य जिंदगी जी। इसके बाद एक रहस्यमयी तूफान में उनकी दृष्टि चली गई। कई दिनों बाद वो परिवार को मिलीं लेकिन उनकी आंखों में मिट्टी भर गई थी। लेकिन इसके बावजूद वो काफी कुछ देखती थीं और भविष्यवाणियां कर लोगों की मदद करती थीं। Continue reading “बाबा वंगा की चौंकाने वाली भविष्यवाणियां”

Sharing is caring! Share the post to your loved ones