Happy Diwali – Stories & Celebration

Happy Diwali : The brightest festival among all the Hindu festival is Diwali. Diwali is a festival of light.Happiness and joy are all around the country. Everyone enjoy Diwali with family, friends, and relatives. On Diwali, people meet their families and near & dear one. Every Hindu family celebrates Diwali with love.
Diwali is celebrated as a day on which Lord Rama returned to his Kingdom Ayodhya after 14 years of exile, in which he put an end to the demon Ravana of Lanka, who was a great Pundit, highly learned but still evil dominated his mind. After this victory of Good over Evil, Rama returned to Ayodhya. In Ayodhya, the people welcomed them by lighting rows of clay lamps. So, it is an occasion in honor of Rama’s victory over Ravana; of Truth’s victory over Evil. Continue reading “Happy Diwali – Stories & Celebration”

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

Story behind Dhanteras – Happy Dhanteras

Dhanteras is a most celebrated festival in India. Dhanteras festival falls in the month of Kartik(Oct-Nov) on the thirteenth day of the dark fortnight. Two days before Diwali, Dhanteras is celebrated. In India, on Dhanteras, Lakshmi – the Goddess of wealth – is worshiped to provide prosperity and happiness. As the word itself explains, Dhan means wealth and ‘Tera’ means 13th. People are celebrating Dhanteras by lighting a lamp in evening. Dhan – Lakshmi is welcomed into the house. Some families are also making Rangoli in front of the door just to welcome the Goddess Lakshmi. Aartis are sung and fruits and sweets are offered to her. On Dhanteras Lord Kuber is also worshiped by Hindu. This custom of worshiping Lakshmi and Kuber together is in the prospect of doubling the benefits of such prayers.
People flock to the jewelers and buy gold or silver jewelry or utensils to venerate the occasion of Dhanteras.
There is a belief that on Dhanteras buying new clothes, Gold and silver are very good and it will increase the wealth and prosperity. New things which are purchase on Dhanteras will get 13 times growth over a year.

Story behind the Dhanteras

There was a story that the 16- year old son of King Hima. His horoscope predicted his death by snake-bite on the fourth day of his marriage. On that particular day, his newly-wed wife did not allow him to sleep. She laid out all her ornaments and lots of gold and silver coins in a heap at the entrance of the sleeping chamber and lit lamps all over the place. Then she narrated stories and sang songs to keep her husband from falling asleep.
The next day, when Yama, the god of Death, arrived at the prince’s doorstep in the guise of a Serpent, his eyes were dazzled and blinded by the brilliance of the lamps and the jewelry. Yam could not enter the Prince’s chamber, so he climbed on top of the heap of gold coins and sat there the entire night listening to the stories and songs. In the morning, he silently went away.
Thus, the young prince was saved from the clutches of death by the cleverness of his new bride, and the day came to be celebrated as Dhanteras. And the following days came to be called Naraka Chaturdashi (‘Naraka’ means hell and Chaturdashi mean 14th). It is also known as ‘Yamadeepdaan’ as the ladies of the house light earthen lamps or ‘deep’ and these are kept burning throughout the night glorifying Yama, the god of Death. Since this is the night before Diwali, it is also called ‘Chhhoti Diwali’ or Diwali minor.

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

तुलसी विवाह – Story and Importance of Tulsi vivah

Tulsi Shaligram Vivah Story in Hindi

तुलसी विवाह कार्तिक माह की शुक्ल पक्ष की एकादशी में मनाया जाता है | इस दिन की मानता है कि आज ही के दिन भगवान विष्णु और तुलसी माता का विवाह हुआ था | तुलसी विवाह की पूरी कथा पद्मा पुराण में है | तुलसी का दूसरा नाम वृंदा भी है | तुलसी माता भगवान विष्णु को बहुत प्रिय थी |
Continue reading “तुलसी विवाह – Story and Importance of Tulsi vivah”

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

धनतेरस : आरोग्य जीवन का आशीर्वाद

आए जाने कैसे करे धन्वंतरी भगवान की पूजा 

धनतेरस एक ऐसा त्योहार है जो दिवाली से पहले आता है और पूरे देश में बहुत जोर शोर से मनाया जाता है | धनतेरस का बहुत ही महत्व है | धनतेरस के दिन ख़ास धन के लिए और आरोग्य जीवन पाने के लिए भक्त भगवान की पूजा करते है | इस दिन भगवान धनवंतरी को पूजा जाता है | आज के दिन लोग भगवान की पूजा के साथ साथ नए बर्तन खरीदते है और कई लोग आज के दिन सोना चांदी भी खरीदते है | ऐसा माना जाता है कि आज के दिन सोना चांदी खरीदना शुभ होता है | सब लोग परिवार के साथ शौपिंग का आनंद लेते है |

Continue reading “धनतेरस : आरोग्य जीवन का आशीर्वाद”

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

कन्या पूजन में क्यों एक लड़के का होना जरुरी है – नवरात्रि

कन्या पूजन

भारत में नवरात्रि में चारो तरफ बस माँ की जय जय कार होती है | हर घर में माँ दुर्गा के नौ रूप की पूजा की जाती है | ऐसा माना जाता है कि नवरात्रों में दुर्गा माँ के नौ रूप सदा हमारे आस पास रहते है | नारी शक्ति के प्रतिक है माँ दुर्गा के नौ रूप | नवरात्रों में कन्या पूजन का बहुत ही महत्व है | कन्या पूजन के बाद ही नवरात्रों को पूरा माना जाता है | यदि नवरात्रि के वर्त रखे हो तब तो कन्या पूजन बहुत ही जरुरी हो जाता है |  नवरात्रों में कई लोग अष्टमी पूजते है और कई लोग नौमी पूजते है और कन्या पूजन करते है | अपने घर में छोटी छोटी कन्याओ को बुलाते है और उन कन्याओ के रूप में माँ दुर्गा के नौ रूपों की पूजा करते है |  Continue reading “कन्या पूजन में क्यों एक लड़के का होना जरुरी है – नवरात्रि”

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

दुर्गा पूजा का महत्त्व – Durga Puja

बुराई पर अच्छाई की जीत

दुर्गा पूजा भारत में बहुत धूमधाम से मनाई जाती है | खास कर के बंगाल और कोलकाता का दुर्गा पूजा सबसे बड़ा त्योहार है | दुर्गा पूजा को मनाने की तिथियाँ हिन्दू पंचांग के अनुसार निकाली जाती है | दुर्गा पूजा का त्योहार दुर्गा माँ की बुराई के प्रतीक राक्षस महिषासुर पर विजय के रूप में मनाया जाता है। दुर्गा पूजा कई राज्यों असम, बिहार, झारखण्ड, मणिपुर, ओडिशा, त्रिपुरा, और पश्चिम बंगाल  में मनाया जाता है | बंगाली हिन्दू और आसामी हिन्दुओं का बाहुल्य वाले क्षेत्रों पश्चिम बंगाल, असम, त्रिपुरा में यह वर्ष का सबसे बड़ा उत्सव माना जाता है।  धीरे धीरे अब दुर्गा पूजा पुरे भारत देश में मनाई जाती है | दुर्गा पूजा बुराई पर अच्छाई का प्रतिक है | नारी शक्ति के सम्मान के लिए भी दुर्गा पूजा मनाई जाती है | |  दुर्गा पूजा आने से एक महीने पहले से ही इस त्योहार की तैयारियां शुरू हो जाती है | कई तरीके के पंडाल सजाए जाते है | जगह जगह अलग अलग तरीके से इस त्योहार को मनाया जाता है | कही कल्चर एक्टिविटी होती है तो कही नाच गाना होता है | सभी माँ दुर्गा के भजनों में खोए होते है| सभी मंदिर बहुत ही सुंदर सजाए जाते है | Continue reading “दुर्गा पूजा का महत्त्व – Durga Puja”

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

नौ दिन बस माँ के साथ – आओ मनाए नवरात्रि साथ

दुर्गा माँ के नौ रूप  – माँ को पसंद है ये नौ भोग

नवरात्रि भारत में हर घर में बहुत ख़ुशी और पूजा पाठ के साथ मनाई जाती है | नवरात्रि के नौ दिन जैसे भगतो के लिए उपहार के दिन होते है | इन नौ दिनों में हर घर से बस माँ की जय जय कार ही सुनाई देती है | नवरात्रि के नौ दिन देवी माँ को पूजा जाता है और नौ दिन उपवास रखा जाता है| नवरात्रि के उपवास में अन्न नहीं खाया जाता| नवरात्रि में दुर्गा माँ के नौ रूपों का पूजन होता है| नवरात्रि के हर एक दिन में माँ दुर्गा के एक रूप की आराधना होती है और उस दिन उस रूप के मन पसंद चीजों का ही भोग लगता है | सभी माँ की भक्ति में डूबे होते है | नवरात्रि के एक दिन पहले से सब घरो में मंदिर की सफाई होती है | माँ को नए जोड़े में सजाया जाता है | आए जाने माँ के नौ रूपों के बारे में | आए जाने, नवरात्रि में किस दिन किस चीज़ का भोग लगाने से आप पर हो सकती है माँ की कृपा | Continue reading “नौ दिन बस माँ के साथ – आओ मनाए नवरात्रि साथ”

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

हिंदी दिवस की शुभकामनाएं – गर्व से बोले अपनी भाषा

हिंदी भाषा के बिना हम सभी भारतीय अधूरे है | ये सिर्फ एक भाषा ही नहीं है बल्कि सभी इन्सान को दूसरें इन्सान से जोड़ने का जरिया है | भारत में हिंदी ही ऐसी भाषा है जो सब से ज्यादा बोली जाती है | 14 सितम्बर को भारत में हिंदी दिवस बहुत ही ख़ुशी के साथ मनाया जाता है | Continue reading “हिंदी दिवस की शुभकामनाएं – गर्व से बोले अपनी भाषा”

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

जन्माष्टमी – अच्छाई की शुरुआत

जन्माष्टमी  (Janmashtmi)

हिन्दू धर्म के अनुसार ये माना जाता है कि जब जब इस धरती में पाप बढेगा तब तब इस धरती में देवता जन्म लेंगे उस पाप को दूर करने के लिए | ये भारत देश का सोभाग्या ही था कि श्री कृष्ण ने इस धरती में जन्म लिया और श्री कृष्ण के जन्म से ये धरती पावन हो गई | श्री कृष्ण ने अपने कई रूप दुनिया को दिखाए और उन के सभी रूपों से पूरी दुनिया मोहित हो गई | चाहे वो एक नटखट पुत्र या फिर एक प्यारा प्रेमी या फिर भाई भाई का अटूट प्यार, श्री कृष्ण ने हर रूप, हर रिश्ते को बह्खुबी निभाया | श्री कृष्ण ने मस्ती भी करी और माँ यशोदा का प्यार भी पाया, भाई से मनमानी भी करी और भाई की आज्ञा का पालन भी करा | गोपियों का दिल भी लगाया और उनका सम्मान भी किया | हर रूप में श्री कृष्ण की जय जय कार हुई| बिना किसी स्वार्थ से हर किसी के साथ रिश्ता निभाया और दुनिया से बुराई को दूर किया | जन्माष्टमी श्री कृष्ण के जन्म की ख़ुशी में पूरे भारत में बहुत ही ख़ुशी से मनाई जाती है | आए जाने क्या कहानी है जन्माष्टमी के पीछे | Continue reading “जन्माष्टमी – अच्छाई की शुरुआत”

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

बदलते वक़्त के साथ बदले राखी मनाने का तरीका

रक्षाबंधन त्योहार भाई बहन के प्यार का प्रतिक है | दुनिया समय के साथ कितनी भी बदल जाए मगर भाई बहन का प्यार आज भी वो ही है | आज भी भाई बहन लड़ते है, बहस करते है मगर एक दुसरे का साथ भी देते है | आज के दिन बहन भाई कितने भी दूर हो मगर राखी के लिए वे एक दुसरे से मिलने जरुर आते है | अगर भाई बहन में कोई लड़ाई भी हो तो आज के दिन सब कुछ भूल के वे मिलते है और उनका खोया हुआ प्यार भी वापिस आ जाता है | Continue reading “बदलते वक़्त के साथ बदले राखी मनाने का तरीका”

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

What Swami Vivekananda did on his last day – स्वामी विवेकानंद ने अपने अंतिम समय में क्या किया

इंडिया ने अध्यात्म की दुनिया में बहुत हीरे दिए है उनमे से एक नाम स्वामी विवेकानंद का भी है | स्वामी विवेकानंद ने अपने अनमोल विचारो से सिर्फ इंडिया में नहीं पुरी दुनिया में अध्यात्म की रोशनी फैलाई |  जीवन में आगे बढने के साथ साथ किस तरह अपने अंदर की शांति को बनाए रखना है ये हमें स्वामी विवेकानंद के विचारो से सिखने को मिलता है

“सच्ची सफलता और आनंद का सबसे बड़ा रहस्य यह हैवह पुरुष या स्त्री जो बदले में कुछनहीं मांगता, पूर्ण रूप से निस्स्वार्थ व्यक्तिसबसे सफल है Continue reading “What Swami Vivekananda did on his last day – स्वामी विवेकानंद ने अपने अंतिम समय में क्या किया”

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

क्या है करेंसी चेस्ट? यूं कुबेर के खजाने से बंटता है रुपया

केन्द्रीय रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया का सबसे प्रमुख काम देश में नई-पुरानी करेंसी का संचार करना है.

इसमें नई करेंसी और नए सिक्कों का देशभर में वितरण, पुरानी करेंसी को रिसाइकल करना और सभी बैंकों में एकत्र हुए अत्यधिक कैश को अपने पास रखने का काम किया जाता है. इन सभी काम को करने के लिए रिजर्व बैंक के पास देशभर में कई खजाना बनाना पड़ता है जिसे वह करेंसी चेस्ट कहता है. इस करेंसी चेस्ट या कुबेर के खजाने को देशभर कई जगहों पर बनाया जाता है जिससे रिजर्व बैंक का करेंसी वितरण काम आसानी से किया जा सके. करेंसी चेस्ट का काम देशभर में करेंसी के संचार को बनाए रखने के लिए मौजूदा समय में रिजर्व बैंक के पास लगभग 4211 करेंसी चेस्ट हैं. इसके अलावा सिक्कों का संचालन करने के लिए उसके पास 3990 डिपो हैं. ये चेस्ट देशभर में फैले हुए हैं क्योंकि संचार के साथ-साथ इन खजानों में किसी भी सामान्य बैंक में जमा कराए गए रुपयों (कैश रिजर्व रेशियो) को भी रखा जाता है. नोटबंदी की प्रक्रिया शुरू होते ही ये करेंसी चेस्ट महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं. सरकारी प्रेम में नई करेंसी की प्रिंटिग होने के बाद उसे सीधे देशभर में फैले इन करेंसी चेस्ट में पहुंचा दिया जाता है. रिजर्व बैंक का दिया यह नक्शा बताता है कि देश में कहां-कहां करेंसी चेस्ट मौजूद हैं. करेंसी चेस्ट में पार्टनर करेंसी चेस्ट को देशभर में स्थापित करने के लिए रिजर्व बैंक प्रमुख सरकारी बैंक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया का सहयोग लेता है. इसके अलावा इस काम में 6 सहयोगी बैंकों, सभी नैशनलाइज्ड बैंक, प्राइवेट सेक्टर के कुछ चुने हुए बैंक, 1 विदेशी बैंक, 1 कोऑपरेटिव बैंक और ग्रामीण बैंक को भी शामिल किया जाता है. इस काम को करने के रिजर्व बैंक अपने देशभर में फैले 18 ब्रांच या इशू ऑफिस के जरिए करता है.

कैसे पहुंचाई जाती है चेस्ट में करेंसी

देश के 4 सरकारी प्रेस में करेंसी की प्रिंटिंग होने के बाद उसे सीधे रिजर्व बैंक के 18 इशू ऑफिस में पहुंचाया जाता है. इन ऑफिस तक नई करेंसी को पहुंचाने के लिए रेलवे, एयर फोर्स के माल वाहक विमान और राज्य पुलिस की मदद ली जाती है. शहरों में यातायात के लिए आमतौर पर करेंसी की बड़ी मूवमेंट के लिए निजी क्षेत्र से बड़े कंटेनर वेहिकल किराए पर लिए जाते हैं. इस पूरी प्रक्रिया की पूरी गोपनियता रखी जाती है और देश के कुछ संवेदनशील इलाकों में सुरक्षा के लिए सेना की मदद भी ली जाती है. इसके बाद करेंसी को रिजर्व बैंक की निगरानी में अन्य बैंकों द्वारा चलाए जा रहे करेंसी चेस्ट में पहुंचा दिया जाता है.

एटीएम और बैंक शाखाओं को मिलता है रुपया

रिजर्व बैंक के इस विशाल नेटवर्क से करेंसी को बैंकिग व्यवस्था में डाला जाता है. इसमें प्रमुख काम देशभर में सभी बैंकों के एटीएम में रुपया भरने के काम के साथ-साथ बैंक की सभी ब्रांचों में दिन के काम के लिए करेंसी की सप्लाई की जाती है.

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

Chanakya niti -किसी भी बिजनेस में सफलता का अचूक मंत्र -चाणक्य नीति 

यदि आप business करते है या करने की सोच रहे है तो ये post आप के लिए लाभ दायक है आचार्य चाणक्य  जो अपने तेज़ दिमाग कि वजह से जाने जाते है जिन्होंने ज़ीवन की कई परेशानियो का हल निकाला है उन्होंने कैसे अपने बिज़नेस को सफल बनाए के tips भी दिए है आप आचार्य चाणक्य  निति को अपना के अपने व्यपार को सफल बना सकते है व्यपार में सफलता पाने के लिए इन 6 बातो का ध्यान दे आचार्य चाणक्य  कहते है कि अगर इन 6 बातो का ध्यान रखोगे तो असफल होने का कोई सवाल ही नही Continue reading “Chanakya niti -किसी भी बिजनेस में सफलता का अचूक मंत्र -चाणक्य नीति “

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

How did Chanakya die – Mystery कैसे हुई थी आचार्य चाणक्य की मृत्यु

कैसे हुई थी आचार्य चाणक्य की मृत्यु

ज़ीवन के कई रह्स्यो को बताने वाले आचार्य चाणक्य के ख़ुद की ज़िंदगी में कई रह्स्य है Continue reading “How did Chanakya die – Mystery कैसे हुई थी आचार्य चाणक्य की मृत्यु”

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

बाबा वंगा (Baba Vanga) की भविष्यवाणियां- 9/11 Attack और Obama के President बनने की कहानी

बाबा वंगा (Baba Vanga) ने 9/11 Attack और Barack Obama के President बनने की भविष्यवाणियां बहुत पहले की थी, और वो सत्य साबित हुई। ऐसी और भी कई भविष्यवाणियां है जो सत्य साबित हुई है। बाबा वंगा को भगवान ने भविष्य देखने की शक्ति दी थी। वो भले ही आँखों से देख नही सकती थी मगर वो भविष्य में क्या होने वाला है देख पाती थी। Continue reading “बाबा वंगा (Baba Vanga) की भविष्यवाणियां- 9/11 Attack और Obama के President बनने की कहानी”

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

95 साल का जवान टर्किश योगी काजिम ने बताए 130 साल तक जिंदा रहने का रह्स्य

“They called it Miracle, I called it hard work “

Yogi Kazim – 95 years young yogi

काजिम जब 41 साल के थे तब एक कार दुर्घटना में उनकी कमर टूट गई थी, इस के बाद उन्हें लकवा मार गया था. सभी डॉक्टरों ने जवाब दे दिया था कि वे अब नही चल पाएंगे. काजिम की कड़ी मेहनत, योगा और दिमाग का सही दिशा में उपयोग करने से फिर से चलने लगे काजिम ने अपने ऊपर 63 प्रयोग किये और प्रयोग करने के 9 महीने बाद काजिम फिर से चल सके.

“Age is an issue of mind over matter” Continue reading “95 साल का जवान टर्किश योगी काजिम ने बताए 130 साल तक जिंदा रहने का रह्स्य”

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

बाबा वंगा की चौंकाने वाली भविष्यवाणियां

2023  में यूरोप की आबादी शून्य हो जाएगी

वेंगेलिया पांडेवा दिमित्रोवा ( Baba Vanga) बुल्गारिया में पैदा हुई।  बाबा वंगा premature baby हुई थी, जिन्हें बचपन में काफ़ी सेहत से परेशानिया हुई।  बचपन में बाबा वंगा एक normal बच्ची थी, छोटे में ही इनकी माँ इस दुनिया से चली गई।  बचपन से ही बाबा वंगा को पड़ोसियों और दोस्तों के सहारे रही। 12 साल तक सामान्य जिंदगी जी। इसके बाद एक रहस्यमयी तूफान में उनकी दृष्टि चली गई। कई दिनों बाद वो परिवार को मिलीं लेकिन उनकी आंखों में मिट्टी भर गई थी। लेकिन इसके बावजूद वो काफी कुछ देखती थीं और भविष्यवाणियां कर लोगों की मदद करती थीं। Continue reading “बाबा वंगा की चौंकाने वाली भविष्यवाणियां”

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

Motivational Stories in Hindi

सकारात्मक सोच का जादू

आओ Bibal  में बताई गई एक कहानी “David & Goliath” के बारे में जाने, कैसे Positive Thinking हमे हमारे जीवन में मदद कर सकती है. Continue reading “Motivational Stories in Hindi”

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

Proud to be Sindhi – Habits of Sindhi

Habits of Sindhis

  1. Business minded

Sindhis are business mind person. They love to do business as compare to the job. They want to be their own boss. Sindhis can make good business strategies. They will not play the same game as others are playing. Continue reading “Proud to be Sindhi – Habits of Sindhi”

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

How to be Successful in Life

How can we succeed in our life?

Success – Everyone wants it but acquire it by the different mean. We all want to be successful but we all have a different definition of success. Some want external success like money, fame, name, good education, good designation etc… Some want internal success like peace, satisfaction, meditation, focus, silence etc… Continue reading “How to be Successful in Life”

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

Holi Special Sweets Recipies

होली (Holi) रंगों का त्यौहार है होली (Holi) खुब मस्ती और धुम्धाम से मनाई जाती है बच्चो में तो इस का ख़ास excitement देखा जाता है  होली पर विशेषकर गुजिया (Gujiya), ठंडाई (thanthai) सब खुब पसंद करते है लोग एक दुसरे के घर जा के एक दुसरे को रंग लगाते है और एक दुसरे को मिठाई खिलाते है बच्चा party तो मिठाई को खाने की ताक पे होते है. इस होली आप सब भी अपने को घर मिठाई की खुश्बू  से महकाए. आप सब के लिये गुजिया(Gujiya), चन्द्रकला गुजिया(Chandrakala Gujiya) और ठंडाई (thanthai)की recipes.  Continue reading “Holi Special Sweets Recipies”

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

Tips for safe Holi- Happy Holi

Holi is a festival of colors and joy. Holi is celebrated with family and friends with full excitement in India. People are throwing colors on others and drink Bhang, dance like crazy and sweets and snacks and sing special holi song with all. Children are very much excited for Holi. They buy pichkari, different colors, and balloons for this occasion. Children are waiting for playing Holi with heart. Continue reading “Tips for safe Holi- Happy Holi”

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

Holi Celebration – Stories behind Holi

Happy Holi

Holi is a colorful festival in India is celebrated on Phalgun Purnima which comes in February end or early March. Holi celebrates the triumph of ‘good’ over ‘bad’. This festival Holi reduces the social gap and sweet relationships. Holi celebration begins with lighting up of a bonfire on the Holi eve. People rub ‘gulal’ and ‘abeer’ on each others’ faces and cheer up saying, “bura na maano Holi hai”. Continue reading “Holi Celebration – Stories behind Holi”

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

Celebration of Holi – होली का मह्त्व

होली (Holi) – Celebration of Holi

होली (Holi) भारत में धूम धाम से मनाई जाती है। होली (Holi) रंगों के त्यौहार है। होली (Holi) फाल्गुन महीने में पूर्णमासी के दिन मनाया जाता है।मथुरा की होली सबसे जयादा famous है। होली मनाने का तरीका हर जगह का भले अलग अलग होता है मगर मस्ती हर जगह छाई होती है हर कोए रंगों में रंगा होता है घरों से पकवनो और मिठाई की खुशबु आती है हर घर मस्ती से भरपुर होता है। भारत के अन्य festival की तरह होली (Holi) भी बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है। प्राचीन पौराणिक कथा के अनुसार होली से राजा हिरण्यकश्यप की कहानी जुड़ी है। Continue reading “Celebration of Holi – होली का मह्त्व”

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

Story of Ritesh Agarwal : Founder Oyo Rooms

क्या आप यह विश्वास कर सकते हैं कि ऐसी उम्र जब हम और आप खुद को पूरी जिंदगी के लिए तैयार करते है या जब हम सब कड़ाके की ठंड में रजाई में दुबके रहते हैं और जब बरसात के दिनों में नम हवा अलसाकर हमारे दिमाग पर नशे की तरह छा रही होती हैं, जीवन के ऐसे नाजुक पड़ाव पर किसी युवा ने आँखों में स्वयं कुछ बड़ा करने के सपने लिए रोज 16 घंटे काम कर 360 करोड़ से भी ज्यादा की कंपनी की नींव रख दी हो? Continue reading “Story of Ritesh Agarwal : Founder Oyo Rooms”

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

Company का नाम Apple कैसे पडा, इसके LOGO का आधा भाग कटा क्यों है ?

Company का नाम Apple कैसे पडा, इसके LOGO का आधा भाग कटा क्यों है ?

दोस्तों technology की दुनिया में जहां भी computer की Companies का नाम आता है उसमे Apple का नाम सर्वोपरी है | Apple का नाम साधारण नही है | लेकिन computer और Technology के क्षेत्र में Apple नाम कुछ अजीब सा लगता है | और बहुतों के मन में एक सवाल आता है कि आखिर इस कंपनी का नाम Apple क्यों और कैसे पडा ? और apple Company के Logo का एक भाग कटा हुआ क्यों है ? Continue reading “Company का नाम Apple कैसे पडा, इसके LOGO का आधा भाग कटा क्यों है ?”

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

SACHET BY RBI

SACHET BY RBI SLCC

http://sachet.rbi.org.in is well known website launched by RBI . The portal helps persons who faced fraud and need to complain to government. Any one can file complain here and know the status of the complain.

Read more about http://sachet.rbi.org.in by website Continue reading “SACHET BY RBI”

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

Kalyan Krishnamurthy – New CEO of Flipkart 2017

Kalyan Krishnamurthy has promoted for the position of CEO in the Flipkart. Former CEO of Flipkart Binny Bansal has been promoted to a new position as Group CEO. Krishnamurthy was a former executive in the New-York based investment firm — will be responsible for Flipkart’s profit and losses, marking a first for the Indian startup sector where co-founders of the country’s most valued Internet Company have handed over the reins to a professional.  Continue reading “Kalyan Krishnamurthy – New CEO of Flipkart 2017”

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

Effect of Demonetisation on Indian economy 2016 – GDP data says it all

On 8 November 2016, Prime Minister of India Mr. Narendra Modi announced on T.V that use of all ₹500 and ₹1,000 banknotes of the Mahtama Gandhi Series would be invalid past midnight, and announced the issuance of new ₹500 and ₹2000 banknotes of the Mahtama Gandhi Series  in exchange for the old banknotes. The banknotes of ₹100, ₹50, ₹20, ₹10 and ₹5 of the Mahtama Gandhi Series and ₹2 and ₹1 remained legal tender and were unaffected by the policy. The government of India claimed that the demonetisation was an effort to stop black money in the country. Continue reading “Effect of Demonetisation on Indian economy 2016 – GDP data says it all”

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

Paytm Payments Bank (PPB) formally approved by RBI: Opening next month in Noida

PayTM has received formal approval for its Payments Bank from RBI today. Yes its true Paytm Payments Bank (PPB) formally approved by RBI: Opening next month in Noida,. Earlier, RBI had provided an ‘in principle license’ to the founder and CEO Vijay Shekhar Sharma and as of today, the final license has been granted. According to Paytm, they will be commencing banking operations soon and it expects to start operations next month. Continue reading “Paytm Payments Bank (PPB) formally approved by RBI: Opening next month in Noida”

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

BB KI VINES- Bhuvan Bam

BB KI VINES is a most famous youtube channel in India. This channel is created by Mr.Bhuvan Bam. Bhuvan Bam is a professional music Creator. He writes, composes and sings his original songs. He had created BB ki Vines accidentally. Continue reading “BB KI VINES- Bhuvan Bam”

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

Treat Daughters-in-Law as Family Members, Not Maids, Says SC

You are unique. You are special. You are the beauty of Goddess. Express yourself. Respect yourself. Don’t pressurize yourself just for the sake of social norms. Only Remember, You are a queen of your father and heartbeat of your mother. We Indians always have two faces, one side we worship Maa Durga & Maa Kali and other side we disrespect our own daughter, daughter in law. Sometimes; we forcefully snatch the rights of daughter-in-law and in return, we expect a lot from her. Here Supreme Court comes in picture. The court made the statements in the context of upholding the sentence of seven-year jail term to a man for torturing his wife, who committed suicide.

Supreme Court says: It is a matter of grave concern and shame that brides are burned or otherwise their life-sparks are extinguished by torture, both physical and mental , because of demand of dowry and insatiable greed and sometimes, sans demand of dowry, because of cruelty and harassment meted out to the nascent brides, treating them with total insensitivity, destroying their desire to live and forcing them to commit suicide, a brutal self – humiliation of life,” said justice KS Radhakrishnan and Dipak Misra

The Supreme Court’s statements were welcomed not just by women’s groups but by all country.

One side our society support girls like Supreme court provide different strong rights to girls but on the other side society drag women in old tradition named Dowry or destroy her personal life or destroy her power of taking the decision of her own life. Because of tradition, girls are forced to stop their career; they have to vanish their all dreams just for the sake of society and family. Now, time has changed but things remain same. Still daughter in law treating like maids of the family. Girls should stand for their own interest; they should raise their voice and stand for their rights. No one will serve their rights on plates, they need to stand for their own interest.

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

जनिए मोदी का नया नियम 500-1000-2000 के नोट के बारे में सबकुछ

जनिए मोदी का नया नियम 500-1000-2000 के नोट के बरे में सबकुछ

पीएम मोदी ने एक बेहद धमाकेदार ऐलान कर दिया है जो देश की आर्थिक स्थिति में जोरदार बदलाव लाएगा. आज आधी रात से 500 रुपये और 1000 रुपये के नोटों को बंद कर दिया जाएगा. यानी आज 11/08/2016 आधी रात 12.00 से 500 और 1000 रुपये के नोट चलना बंद कर दिए गए हैं. पीएम मोदी ने आज देश के नाम संबोधन करने का अचानक ऐलान करके सबको चौंका दिया और इस संबोधन को आर्थिक महत्व से जोड़कर चौंका दिया.

3 दिसंबर 2016 तक आपके पास जो भी 500 और 1000 रुपये के नोट हैं वो बैंक और डाकघर में जमा कर सकते हैं. 10 नवंबर से 30 दिसंबर 2016 के बीच आप बैंक, डाकघर में नोट जमा कर सकते हैं.

एक और बड़ी खबर है कि इसी फैसले के चलते 9 और 10 नवंबर को एटीएम काम नहीं करेंगे और आपको कैश की जरूरत है तो 100 रुपये के नोटों का बंदोबस्त कर लें. आप एटीएम से 2000 रुपये से ज्यादा कैश नहीं निकाल सकते.

जानें पीएम ने बड़ा ऐलान करते हुए क्या कहा Continue reading “जनिए मोदी का नया नियम 500-1000-2000 के नोट के बारे में सबकुछ”

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

भाई दूज का त्योहार

भाई दूज का त्योहार भाई बहन के स्नेह को सुदृढ़ करता है। यह त्योहार दीवाली के दो दिन बाद मनाया जाता है।
हिन्दू धर्म में भाई-बहन के स्नेह-प्रतीक दो त्योहार मनाये जाते हैं – एक रक्षाबंधन जो श्रावण मास की पूर्णिमा को मनाया जाता है। इसमें भाई बहन की रक्षा करने की प्रतिज्ञा करता है। दूसरा त्योहार, ‘भाई दूज’ का होता है। इसमें बहनें भाई की लम्बी आयु की प्रार्थना करती हैं। भाई दूज का त्योहार कार्तिक मास की द्वितीया को मनाया जाता है। Continue reading “भाई दूज का त्योहार”

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

India – Pakistan (Uri attack & surgical operation)

Environment between India and Pakistan is not healthy. Again and again, India attacked by Pakistan’s terrorist. They forced India for a fight. India is a peaceful country. India always believes in peace. India always fights with Pakistan for maintaining peace and to give them a strong message that India will not tolerate any violence and terrorist activity. India fights four wars with Pakistan in 1947, 1965, 1971 and 1999. Maximum time India won the war and gave a strong message to Pakistan that India will not tolerate any violence.

Uri Attack

On 18 September 2016, a near the town of Uri in the Indian – administered state of Jammu and Kashmir, attacked by four heavily armed terrorists. It was reported as “the deadliest attack on security forces in Kashmir in two decades”.  No group has claimed responsibility for the attack, though the militant group Jaish – e-Mohammed is suspected of being involved in the planning and execution of the attack.  A gun battle ensued lasting six hours, during which all the four militants were killed. Additional 19-30 soldiers were reported to have been injured in the attack. Combing operations continued to flush out additional terrorists thought to be alive. Most of the soldiers killed were from the 10 Dogra and 6 Bihar regiments. One of the injured soldiers succumbed to his injuries on 19 September at R&R Hospital in New Delhi, followed by another soldier on 24 September, bringing the death toll to 19.

Surgical Strike

On 29 September, after Uri attack, India took a strong step towards removing terrorism in Pakistan. Indian army force carried out operation named “Surgical Strike” in Pakistan occupied Kashmir, targeting and destroying terror launch pads and killing terrorists. it is estimated that 30-35 terrorists were at the locations targeted by special forces. Two Indian Army soldiers are believed to have been injured in the attack but were safely evacuated after the strike. With this operation, India changed the rule of Game. Pakistan rejected the claim, stating that Indian troops had not crossed the Line of Control but had only engaged in border skirmishing with Pakistani troops, resulting in the deaths of two Pakistani soldiers and wounding nine. Pakistan said India was hiding its casualties. After denying of Pakistani government for a surgical strike, Indian army claimed that he had a video about it. Indian army handed over the video to the Indian government. According to indiatoday, a  newspaper report published on 6 October 2016 confirmed that the Army operation indeed took place by citing eyewitness across from across the LoC. In the night of September 28-29, Indian Army commandos had crossed over to the PoK and killed nearly 50 terrorists and destroyed at least launch pads. The strikes happened 10 days after Pakistan-based terrorists stormed an Army camp in Jammu and Kashmir’s Uri sector and killed 19 Indian soldiers.

 

 

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

Happy Independence Day – 15 अगस्त 2016 – ऐ मेरे वतन् के लोगों

आज ही के दिन हम हिंदुस्तनियो को अग्रेजो से आजादी मिली थी .जब सब भाइयों ने चाहे वो हिंदू हो चाहे मुस्लिम चाहे सिख मिल के हाथ मिलाया था तब जाके हमने ये आजादी पाई थी. हमारे बड़े बुजार्गो ने इस आजादी की काफी कीमत चुकाई है. अपने दिन का सुकुन खोक्र्र,अपना जीवन दान कर के, अपना सब कुछ खोके हमे ये आजादी दिलाई है . आजादी को पाए 70 साल हो गए हमारे हिंदुस्तान को . बहुत कुछ develop हुआ है हिंदुस्तान में और काफी कुछ तो अभी बाकी है ….. वो क्या कहते है फिल्मी जाबान में ……Picture तो अभी बाकी है मेरे दोस्त. हिंदुस्तान आज की तारीख में पुरी दुनिया में अपनी काबिलियत के लिए जाना जा रहा है. आओ चलो मिल के इस आजादी को Happy Birthday बोले. आज के दिन हमारे प्र्धानमंत्री श्री नरेंदेर मोदी एक प्रोग्राम लौंच करेंगे “70साल आजादी ज़्ज़रा याद करो कुर्बानी “(AZADI70) इस प्रोग्राम का aim यह है कि सबको ये याद दिलाना कि देश पहले बाकी सब बाद में. आज के खुशी भरे दिन में चलो शहीदो को याद किया जाए जिन्होंने हमे ये आजादी दिलाई है.

ऐ मेरे वतन् के लोगों
तुम् खूब् लगा लो नारा
ये शुभ् दिन् है हम् सब् का
लहरा लो तिरंगा प्यारा
पर् मत् भूलो सीमा पर्
वीरों ने है प्राण् गँवा
कुछ् याद् उन्हें भी कर् लो -२
जो लौट् के घर् न आये -२
ऐ मेरे वतन् के लोगों
ज़रा आँख् में भर् लो पानी
जो शहीद् हु हैं उनकी
ज़रा याद् करो क़ुरबानी
जब् घायल् हु हिमालय्
खतरे में पड़ी आज़ादी
जब् तक् थी साँस् लड़े वो
फिर् अपनी लाश् बिछा दी
संगीन् पे धर् कर् माथा
सो गये अमर् बलिदानी
जो शहीद्॥।
जब् देश् में थी दीवाली
वो खेल् रहे थे होली
जब् हम् बैठे थे घरों में
वो झेल् रहे थे गोली
थे धन्य जवान् वो आपने
थी धन्य वो उनकी जवानी
जो शहीद्॥।
को सिख् को जाट् मराठा
को गुरखा को मदरासी
सरहद् पे मरनेवाला
हर् वीर् था भारतवासी
जो खून् गिरा पर्वत् पर्
वो खून् था हिंदुस्तानी
जो शहीद्॥।
थी खून् से लथ्-पथ् काया
फिर् भी बन्दूक् उठाके
दस्-दस् को एक् ने मारा
फिर् गिर् गये होश् गँवा के
जब् अन्त्-समय् आया तो
कह् गये के अब् मरते हैं
खुश् रहना देश् के प्यारों
अब् हम् तो सफ़र् करते हैं
क्या लोग् थे वो दीवाने
क्या लोग् थे वो अभिमानी
जो शहीद्॥।
तुम् भूल् न जा उनको
इस् लिये कही ये कहानी
जो शहीद्॥।
जय् हिन्द्॥। जय् हिन्द् की सेना -२
जय् हिन्द् जय् हिन्द् जय् हिन्द्

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

Water Harvesting; छतों के साथ सड़क का पानी भी रीचार्ज

पानी की कमी की दिक्कतों से आज कई लोग जुझ रहे हैं और पानी बचाने के कई तरकीबों की खोज की जा रही हैI इसी दिशा में गुढ़ियारी में रहने वाले टीचर रामसिंह कैवर्त ने वाटर हार्वेस्टिंग के लिए बहुत कम खर्च वाली एक देशी तकनीक विकसित कर डाली है और यह प्रयोग कामयाब भी रहा है। अभी सरकारी एजेंसियां मकानों और कॉम्प्लेक्सों में वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम लगाने पर जोर दे रही हैं, लेकिन इस टीचर ने अपने सिस्टम से छतों ही नहीं, सड़क के पानी को भी रीचार्ज करने का इंतजाम कर लिया है। नतीजातन काॅलोनी के दर्जनों बोर और कुछ कुएं इस साल गर्मी में भी पूरी तरह नहीं सूखे।
– जनता क्वार्टर में रहने वाले रामसिंह अर्धशासकीय स्कूल में शिक्षक हैं। वे 1988 में इस कॉलोनी में रहने आए। चार-पांच साल बाद से ही अप्रैल-मई में यहां के बोर और कुएं पूरी तरह सूखने लगे।
– तब यहां निगम की वाटर सप्लाई नहीं थी। ऐसे में गर्मी में लोग टैंकरों के भरोसे ही रह गए। ऐसे में टीचर कैवर्त ने हार्वेस्टिंग सिस्टम पर काम शुरू किया।
– सबसे पहले उन्होंने घर के पास एक प्लाट का कचरा साफ करवाया और वहां 18 फीट गहरा गड्ढा करवा दिया।
– कुएं के आकार के इस गड्ढे के किनारे कंक्रीट रिंग और सीमेंट-ईंट से बनाई गई। इसी में अलग-अलग दिशा में छेद करते हुए पाइप लगाए गए।
– सड़क और आसपास का पानी इन्हीं पाइप के पास आए, इसका रास्ता भी बना दिया। पाइप में छन्नियां लगा दी गईं।
– इसके बाद गड्ढे में 10 फीट ऊंचाई तक गिट्टी और नारियल के छिलके डलवाए, ताकि जो पानी पाइप से नहीं छन पाए,इनसे छनकर नीचे जाए।

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

India – Bas Naam Hi Kafi Hai!

India is a country of love, care and affection. We in India respect our elders, care for our mates and traditional culture. The pledge “All Indians are Brothers and Sisters” is believed and followed by all of us. Thus, I feel very proud to be an Indian.

In Space

India’s achievements in space are mind blowing. India has launched a number of satellites in space. The missiles such as Prithvi (ii), Agni launched in this year only. Day by day our nation’s security is strengthened by these missiles.

Largest Democracy

India is the largest democracy in the world. It has a civilization and boasts of multiple cultural origins. There is an emerging global, scientific and technological superpower, with a diverse environment in flora and fauna.

Tradition and Culture

The variety in languages, cultures, lifestyles, cuisines, climatic conditions, scenic beauty, architecture, traditions…It is not only our great achievers, in fields more than many, but also the common people that strive to make it better, day by day. There are already enough mentions about our great discoveries, inventions, spices, arts and craft, technological genius, media, film, advertising, medicine, finance, fashion, textiles, agriculture, self reliability and spirituality.

Holy Rivers

It is a land of holy rivers, beautiful mountains and dense forests. There is natural beauty in our country.

Celebration of May 26 as Science Day in Switzerland

May 26 is celebrated as a Science day in Switzerland for the honor of Dr. Abdul Kalam because He visited Switzerland on that day.

Post office

India has a largest number of post offices in the world.

 

 

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

History of Raksha Bandhan

The Bond of love between sisters and brothers is celebrated on the occasion of Raksha Bandhan in India. On this day sister ties a thread around her brother’s wrist as a symbol of protection while the he promises to protect and take care of her. Raksha Bandhan falls on the day of the full moon. On this occasion all family members cherish the love of sisters and brothers. On this occasion brothers offer gifts to their sisters just to make her happy. Sisters show their love to brothers by tieing attractive piece of thread (Rakhi). It is also known as Rakhi Poornima or Rakhi

Raksha Bandhan – History

  • There were different stories behind Raksha Bandhan occasion but the famous one is Rani Karnavati of Chittorgarh and Mughal King Humayun. Chittorgarh was once attacked by Bahadur Shah and it was not possible for widowed Rani Karnavati to save her empire from the mighty force of Bahadur Shah. She sent a rakhi to Humayun and pleaded to save her and the empire. Overcome by emotions, Humayun, along with his force, immediately rushed to Chittorgarh to protect the queen. Though he could not save Karnavati as she and all other womenfolk there had committed suicide before he could reach, Humayun fought against Bahadur Shah and saved Chittorgarh from his invasion. Later, he handed over the empire to Karnavati’s son Vikramjeet Singh.
  • It is believed that once Lord Krishna cut his finger and was bleeding profusely. Seeing this, Draupadi tore a part of her sari and tied it around his finger. This is believed to be the reason why he saved her during hercheerharanby Kaurava.
  • Rakhi saved Alexander The Great’s life. When he had invaded India, his wife Roxana had sent a rakhi to the Katoch King Porus and he had vowed to protect her and her husband. So, on the battlefield when he was about to kill Alexander he saw the rakhi and refrained from killing him.

 

Source – International business times, DNS

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

क्या बीते जमाने की बात हो जाएगा ‘पारले-जी’ बिस्किट?

हिंदुस्तानी लोगों और उनके दिलों पर राज करने वाला बिस्किट ‘पारले-जी’ अब नहीं मिलेगा। इसका कुरकुरा स्वाद लोग नहीं ले पाएंगे। झोपड़ी से लेकर रईसजादों की पहली पसंद रहा पारले हमारे लिए अब एक सपना और गुजरे दौर की बात होगी।कंपनी प्रबंधन ने हालांकि सिर्फ एक यूनिट बिलेपार्ले को बंद करने का फैसला लिया है, पर कल को सभी यूनिटें बंद की जा सकती हैं। हालांकि अभी यह कहना मुश्किल होगा कि पारले-जी, बिस्कुट की दुनिया से अलविदा हो जाएगा या फिर मिलता रहेगा। लेकिन करोड़ों भारतीयों की पहली पसंद पर सवाल तो खड़े हो ही चले हैं। कंपनी ने लगातार हो रहे घाटे के कारण पारले का उत्पादन ही नहीं, बल्कि मुंबई के बिलेपार्ले उपनगर में स्थित यूनिट को ही बंद कर दिया है।
यह यूनिट पूरे 10 एकड़ में फैली थी। इसकी स्थापना 1929 में की गई थी, लेकिन बिस्कुट का उत्पादन 1939 से शुरू हुआ था। इसमें 300 से अधिक कर्मचारी काम करते थे, जिन्हें वीआरएस दे दिया गया है। तकरीबन 90 सालों से पारले-जी स्वाद और बिस्किट बाजार की दुनिया में लोगों की जुबान पर छाया था। पारले-जी के पैक पर बच्चे की छपी तस्वीर आज भी लोगों के जेहन में वैसे ही बनी है। कंपनी उस बच्चे की तस्वीर का उपयोग सालों से अपने प्रचार के लिए विज्ञापन की दुनिया में करती आ रही थी।उसने कभी अपना लोगो नहीं बदला। पैक पर छपा मासूम सा बच्चा आज भी पारले-जी की पहचान है। कंपनी प्रबंधन इसके पीछे चाहे जो भी तर्क दे, लेकिन बात हजम नहीं होती है। कंपनी का बंद होना आम और खास सभी को खल रहा है। बेहद कम कीमत में पारले ने आम हिंदुस्तानियों को जिस तरह के स्वाद की दुनिया से परिचय कराया, वह बात और दूसरों में नहीं मिली। बिस्किट की दुनिया में हजारों ब्रांड उपलब्ध हैं, लेकिन जितना नाम इस कंपनी ने कमाया शायद उतना किसी ने नहीं। कम कीमत और स्वाद में बेजोड़ होने के कारण यह आम भारतीयों से जुड़ गया था और इसने अपनी क्वालिटी बरकरार रखी। कंपनी प्रबंधन का दावा है कि लगातार उत्पादन गिर रहा था, जिससे कंपनी को घाटा हो रहा था।पिछले सप्ताह कंपनी में कुछ दिन के लिए उत्पादन बंद भी कर दिया गया था। कहा यह जा रहा है कि जिस गति से मुंबई विकास की तरफ बढ़ी उस गति से पारले-जी यानी कंपनी आगे नहीं बढ़ पाई। लेकिन यह बात लोगों को नहीं पच पा रही है। सबसे अहम सवाल है कि प्रबंधन कंपनी बंद करने और कर्मचारियों को वीआरएस देने के लिए चाहे जो बहाना ढूंढ़े, लेकिन इसकी दूसरी वजह ही लगती है। सवाल उठता है कि कंपनी घाटे में क्यों चल रही थी? 90 साल पुरानी जिस कंपनी का सालाना करोबार 10 हजार करोड़ रुपये का रहा हो, उस कंपनी को भला घाटा कैसे होगा?
बिस्किट बाजार में अकेले पारले-जी की बाजार हिस्सेदारी 40 फीसदी रही। यानी पूरे बाजार पर जिसका लगभग आधा हिस्सा रहा हो, भला उस कंपनी को मुनाफा कैसे नहीं होगा और उत्पादन क्यों गिरेगा? वह भी जब कंपनी के दूसरे उत्पाद भी बाजार में उपलब्ध हों जिनकी बाजार हिस्सेदारी 15 फीसदी रही है।यह कंपनी चॉकलेट और मैंगो बाइट के अलावा दूसरे उत्पाद भी बनाती थी, जिससे कंपनी को बंद करने के पीछे प्रबंधन का तर्क आम लोगों को नहीं पच रहा है। कंपनी को बंद करना और उसे चलाना उसके प्रबंधन का मामला है। लेकिन असलियत यह है कि जिस जगह कंपनी स्थापित रही वह मुंबई का हृदय स्थल है।
सिर्फ मुंबई यूनिट का उत्पादन गिर रहा था या फिर देशभर में जहां पारले का उत्पादन होता है उन यूनिटों में भी यह स्थिति है। अगर दूसरी जगहों पर इस तरह की बात नहीं थी तो मुंबई में यह कैसे हो सकता है? कंपनी बंद होने के पीछे रीयल स्टेट बाजार का भी दबाव काम कर सकता है, क्योंकि वहां की जमीन कीमतों में भारी उछाल बताया जा रहा है।
बिलेपार्ले में 25 से 30 हजार रुपए स्क्वायर फीट जमीन बिक रही है। दूसरी बात वहां जमीन अधिक उपलब्ध नहीं हो सकतीं, क्योंकि यह बेहद पुराना उपनगर है। यूनिट बंद होने के पीछे यह बात भी हो सकती है कि कंपनी रीयल स्टेट में कदम रखना चाहती हो या उस जमीन का उपयोग दूसरे किसी काम में करना चाहती हो। लेकिन प्रबंधन की तरफ से यह साफ नहीं हुआ कि कंपनी बंद होने के बाद उस जमीन का क्या होगा, क्योंकि यहां उसका मुख्यालय भी है।

Sharing is caring! Share the post to your loved ones