Biography of Shiv Khera – शिव खेरा के जीवन का संघर्ष

shivkhera

शिव खेरा का जीवन परिचय – Biography of Shiv Khera

जीवन को अलग से नहीं बल्कि जीवन को अलग ढंग से जीने की सलाह देने वाले शिव खेरा, एक जाने माने लेखक है | मगर किसी को भी सफलता इतनी आसानी से नहीं मिलती | सफल होने के लिए अपने आप को आग में तपाना पड़ता है तभी सोने की तरह निखार आता है | हीरा भी बहुत सालो से भार सहन करके ही हीरा बन पाता है | हर कोई चांदी का चम्मच मुह में लेके पैदा नहीं होता है | शिव खेरा जी भी एक सामान्य घर में जन्मे थे | लेकिन उनकी सोच सामान्य नहीं थी | शिव खेरा ने अपने जीवन में कई उतार चड़ाव देखे |

“आप का Attitude, आप का महत्व (value) और आपकी दृष्टि (vision), आप के सफलता का blue print बनाते है”

शिव खेरा का जन्म 23, अगस्त, 1961 में झारखण्ड में एक व्यवसाही परिवार में हुआ था | इनके पिता कोयले का काम करते थे | जब सरकार ने कोयले का राष्ट्रीयकरण कर दिया था, तब इनके परिवार की आर्थिक हालत ख़राब हो गई थी | शुरू शुरू में शिव खेडा पढाई में ओसत नंबर ही ला पाते थे पर बाद में उनकी रूचि पढाई के तरफ बड गई थी| उन्होंने बिहार के एक कॉलेज से स्नातक की डिग्री ली | शिव खेरा ने अपने जीवन में बहुत उतार चड़ाव देखे जैसे उन्होंने कनाडा में कार धोने का काम किया, insurance एजेंट बने और कई कम्पनी के sales man भी बने पर ये सब कर के भी उन्हें सफलता नहीं मिली |  Turning Point of Shiv Khera’s life  कनाडा में बात ना बनने की वजह से शिव खेडा अमेरिका आ गए वहा उनको नार्मन विन्सेंट पेअले (motivational speeker) को सुनने का मोका मिला | नार्मन विन्सेंट पेअले के विचारो को सुन कर शिव खेडा काफी प्रभावित हुए | शिव खेडा को जैसे उनके जीवन की राह मिल गई थी | शिव खेडा ने भी motivational speeker बन कर अपने नए करियर की शुरुआत की और उन्हें इस में सफलता मिलने लगी | शिव खेडा ने जातिवाद आरक्षण के खिलाफ एक movement शुरू किया था | शिव खेडा ने सकरात्मक सोच और सफलता के विषय में कई किताबे लिखी है | शिव खेडा की कई किताबे अलग अलग भाषा में पब्लिश हुई है | 1998 में शिव खेडा ने अपनी पहली किताब पब्लिश की थी “जीत आपकी” “You can win”. The Hindu अख़बार के अनुसार शिव खेडा की किताब “You can win” जून 2017 तक 35 million copies बिक चुकी है | शिव खेडा दुनिया में अलग अलग देशो में जा के सेमिनार करते है और सभी को सफलता के तरफ motivate करते है | शिव खेडा को अलग अलग companies से Seminar के लिए invitation आता है | शिव खेडा कहते है कि जब भी कोई उनके सेमिनार में आ के अपने जीवन में बदलाव महसूस करता है तो इन सब से उनको शक्ति मिलती है | शिव खेडा अपने सेमिनार में Self Improvement को जोर देते है और हमेशा खुदी में ज्यादा सुधार करने की राय देते है | शिव खेडा अपने सेमिनार में Parents और Teachers को बहुत महत्व देते है और कहते है, सिर्फ Parents और Teachers ही हमारी गलतियों को ठीक करते है बाकी सारी दुनिया हमें हमारी गलतियों की सज़ा देती है | हाल ही में शिव खेडा ने कहा है कि वे Parenthood पे एक किताब लिख रहे है |  List of Books written by Shiv Khera

शिव खेरा ने अपनी सकरात्मक सोच से कई किताबे लिखी है और उनकी ज्यादातर किताबो को लोगो ने सराहा है | शिव खेडा ने कई companies में जा के वहा के employees को अपनी सकरात्मक सोच से motivate किया है |  शिव खेड़ा बहुत ही खूब motivational speeker है | उनकी लिखी हुई किताबो से भी उनके सकरात्मक सोच का पता चलता है | शिव खेडा की लिखी हुई किताबो की जानने के लिए निचे दिए गए link में click करे |

Best Books by Shiv Khera

 शिव खेडा के अनमोल विचार

अच्छाई और बुराई

“अच्छाई हमेशा सिचनी पड़ती है”

“Goodness always needs to be cultivated”

शिव खेडा के अनुसार अच्छाई हमेशा सिचनी पड़ती है “Goodness always needs to be cultivated” | हमें हमेशा अच्छाई को बढावा देना होता है और बुराई तो तेज़ी से फैल ही जाती है मगर अच्छाई को हमें आगे करना होता है |

जरुर पढ़े : शिव खेडा के अनमोल विचार

आत्म बल और कौशल

“कौशल से ज्यादा इन्सान की इच्छा शक्ति उसे सफलता तक ले जाती है”

“It was will power more than skill that contribute to one’s success”

शिव खेडा के अनुसार इच्छा शक्ति और आत्म बल व्यक्ति को ज्यादा मदद करते है सफलता पाने के लिए | कौशल से ज्यादा इन्सान की इच्छा शक्ति उसे सफलता तक ले जाती है | शिव खेडा के अनुसार technical skill और other skill तो जरुरी है ही मगर people skill आपके career और आपके business के लिए ज्यादा जरुरी है | अगर आप रिश्ते बनाना और रिश्ते संभाल ना दोनों सीख गए तो आप अपने जीवन में कई परेशानियों से बाख जाओगे | शिव खेडा के अनुसार आज की generation tech savvy है, आज कल के लोग मोबाइल और लैपटॉप पर ज्यादा समय व्यतीत करते है और काफी कम समय दुसरो से बात करते या मिलते है | इस के कारण आज कल के लोगो को दुसरे लोगो से बात करना या उनके साथ रहने में दिक्कत आ रही है | अगर आज की generation को people skill मतलब लोगो को manage करना नहीं आए गा तो वो सफलता का असली स्वाद नहीं चख पाएंगे |

व्यापारिक और व्यवहारिक

“हमें व्यापारिक समस्याएं नहीं है, व्यवहारिक समस्याए है”

शिव खेडा के अनुसार हमें हमारे व्यापार में व्यापारिक समस्याए नहीं बल्कि व्यवहारिक समस्याए ज्यादा होती है | अगर हम व्यवहारिक समस्याओ को दूर कर लेते है तो हमारी व्यापारिक समस्याए अपने आप दूर हो जाती है |

Hire और Fired

We are hire for our skill but fired for our behavior”

शिव खेडा के अनुसार हमें हमारे व्यवहार पर ज्यादा काम करना चाहिए | हमारा व्यवहार ही हमें सफलता तक पहुचाएगा | हमारी पढ़ाई और हमारे हुनर हमें नौकरी और काम दिला तो सकते है मगर हमारा व्यवहार ही हमें हमारे व्यापार में आगे ले जाएगा |

सकरात्मक सोच और सफलता

शिव खेडा के अनुसार सकरात्मक सोच (Positive Thinking) रखने से आप सफल होंगे ऐसा कहना गलत होगा बल्कि सकरात्मक सोच रखने से आप के सफल होने के chances बड जाते है | सकरात्मक सोच के साथ साथ आप को उसी दिशा में काम भी करना होगा, बिना काम के आप कभी भी सफल नहीं हो सकते |

 

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *