जाने क्यों है नेटवर्क इंडस्ट्री एमवे की कर्ज़दार

amway

एमवे

आज एमवे कंपनी नेटवर्क मार्केटिंग के क्षेत्र में दुनिया की नंबर वन कंपनी है | एमवे कंपनी 1959 में शुरू हुई और लगातार सफलता की ओर बड़ती रही | एमवे कंपनी के 450 उत्पाद है जिसे कंपनी खुद बनाती है | जिसमे से 380 पेटेंट शामिल है | इन पेटेंट उत्पादों के पीछे कई वैज्ञानिको की कड़ी मेहनत है | एमवे के कई लाखो में सक्रिय वितरक है | कई कंपनियों का एमवे के साथ टाई अप है, इन कंपनियों के लगभग 3000 उत्पाद एमवे में शामिल है | एमवे 90 से ज्यादा देशो में फैली हुई है और हर देश में एमवे को सफलता ही मिली है |

एमवे कंपनी के तीन E

एमवे अपने उत्पादों की गुणवक्ता का पूरा ध्यान रखती है | एमवे अपने उच्चतम गुणवक्ता के लिए पूरी दुनिया में मशहूर है | एमवे के उत्पाद तीन E के लिए जाने जाते है :

Economical(तिफायती)

Effective (असरदार)

Eco-friendly (पर्यावरण मित्र)

जरुर पढ़े : कैसे मिक्सर ग्राइंडर बेचने वाले ने बनाया मैकडॉनल्ड 

क्यों है नेटवर्क इंडस्ट्री एमवे की कर्ज़दार

जब एमवे कंपनी नेटवर्क मार्केटिंग के क्षेत्र में सबसे सफल हो गई तब नेटवर्क मार्केटिंग की सफलता को देख कर कई सही और गलत कंपनिया व्यापार के लिए आगे आने लगी | इस से नेटवर्क मार्केटिंग की छवी आहात होने लगी | कुछ कंपनिया बस लोगो को लूटने के लिए बाज़ार में आई जैसे मेंबरशिप , चेन सिस्टम, पिरामिड सिस्टम, ऐरोप्लेन | ये कंपनिया सभी आकर्षक आश्वासनों के साथ बाज़ार में आती, पैसा बटोरती और फिर गायब हो जाती | ऐसी योजनाओ में कई लोगो ने अपनी पूंजी गवा दी | सत्तर और अस्सी के दशक में जो भी कंपनिया “नेटवर्क मार्केटिंग” के शिखर पर पहुचती, उसे फ़ेडरल ट्रेड कमीशन कोर्ट में खींचती और ज़रा सी भी अनियमितता मिलने पर सजा दी जाती |

जरुर पढ़े : किसी भी बिजनेस में सफलता का  चाणक्य मंत्र 

इस वजह से बहुत सी अच्छी कंपनिया भी बर्बाद हो गई जैसे मेरी के, न्यू स्किन, फण्ड अमेरिका आदि | फ़ेडरल ट्रेड कमीशन ने एमवे कंपनी को भी नहीं छोड़ा और 1975 में उसे भी कोर्ट का सामना करना पड़ा | एमवे कंपनी निडर हो कर जमी रही और पूरे चार साल तक कोर्ट में संघर्ष किया | एमवे ने कोर्ट में कई सवालों का डट कर सामना किया और सब का जवाब दिया | एमवे ने कोर्ट में साबित किया कि एमवे कंपनी से जोड़ने वाला आखिरी व्यक्ति भी लाभ पाता है | एमवे सिर्फ लोगो को जोड़ने का कमीशन नहीं देती बल्कि लोगो ने जो उत्पाद इस्तेमाल किया है, उस उत्पाद से हुए कारोबार पर कमीशन देती है |  1979 में एमवे कंपनी ने ये केस जीत लिया | तब नेटवर्क मार्केटिंग क्षेत्र में एमवे कंपनी दुनिया की पहली कंपनी बनी जिसने इतने संघर्ष के बाद जीत अपने नाम की और इस जीत से पूरी दुनिया को ये मेसेज दिया गया कि एमवे कंपनी किसी भी अवैध पिरामिड के आधार पर अपना व्यापर नहीं कर रही है | एमवे कंपनी ने साबित किया कि एमवे कंपनी पूरी तरह से ईमानदारी के साथ व्यापार कर रही है |

पहली बार पिरामिड, स्कीम और अवैध नेटवर्क मार्केटिंग के लिए एमवे पर चले केस के बाद दिशा निर्देश, नियम व कानून बने | पूरी नेटवर्क इंडस्ट्री इसके लिए एमवे की कर्जदार रहेगी |

Sharing is caring! Share the post to your loved ones

Leave a Reply

Your email address will not be published.